भारत रेलवे का इतिहास हिंदी में | Indian Railway Gk

दुनिया का चौथा सबसे बड़ा भारत रेलवे नेटवर्क है, जिसके इतिहास के बारे में आज हम बात करेंगे और इसके पूरे इतिहास से वर्तमान तक के बारे में जानेंगे कैसे और किस हालातों में भारत रेल को शुरू किया गया और कैसे यह इतना बड़ा रेलवे नेटवर्क बन गया तो चलिए शुरू करते हैं।

 

भारत रेलवे का इतिहास

 

    भारत में जब अँग्रेज शासन चल रहा था 1832 में भारत में रेल चला कर के पहली बार किया था लुड़ ओसी ने ओर 1837 में मद्रास के लिए रेल का शुरुआत हुआ था जो की माल परिवहन रेल गाड़ी थी, 1840 में कोलकता से लेकर मुंबई तक भी माल परिवहन रेलगाड़ी तैयार किया गया।

 

1853 अप्रैल 16 में पहेली बार लोकोमोटिव यात्री ट्रैन मुंबई की बोरीबन्दर स्टेशन जो की अभी सीएसटी के नाम से जाना जाता है, सीएसटी से थाने को पहली यात्री ट्रैन चलाया गया था जो की 14 डब्बे के साथ 400 लोग बैठे थे, यह ट्रेन 35 किलोमीटर जाने के लिए 57 मिंट लगाए थे, उसके बाद कोलकता से हूगली मद्रास से दिल्ली होकर 1857 तक पुरे 4000 किलोमीटर तक रेलवे का जाल फ़ैल गया था।

Read Also:

SAD: संगठन की जानकारी | इतिहास

PAS Full Form In Hindi

 

पहले कोई भी ट्रैन में टॉयलेट नही था 1891 में ट्रैन डब्बे के अंदर टॉयलेट दिया गया ओर साथ में ट्रैन डब्बे के अंदर लाइट की भी व्यवस्था कराई गयी, 1925 में पहली बार भारत में बिजली पर चलने वाली ट्रैन चलाई गयी कुर्ला से ठाणे के बीच। उस वक़्त भारतीय लोग अंग्रेजों को भगाने में जुटे थे जिसके कारन 1930 से लेकर 1954 तक रेलवे के कोई भी परिवर्तन नही हुआ।

 

इँडियन रेलवे जानकारी

 

भारत में पहली बार 1837 में ट्रैन का टेस्टिंग हुआ था,

 

भारत में पहली बार यात्री ट्रैन 16 अप्रैल 1853 को चलाया गया था।

 

भारत का रेलवे नेटवर्क दुनिया का 4था सबसे बड़ा रैल नेटवर्क है।

 

भारत में 1925 में पहली बार बिजली पर चलने वाला ट्रैन चलाया गया।

 

1957 में भारत (आर डी एस सी) रेलवे का एक दूसरा डिपार्टमेंट खोला गया जो भारत रेलवे को कंट्रोल करने के लिए बनाया गया।

 

भारत में 1986 में पहली बार मुंबई में रिज़र्वेशन टिकट लागू हुआ था।

 

भारत को लूटने के लिए ही अंग्रेजों ने भारत में ट्रैन चलाया था।

 

भारतीय रेलवे का रेल  नेटवर्क 65,0000 किलोमीटर तक फ़ैला हुआ है,

 

भारत में अब कुछ वक्त पहले ही मेट्रो ट्रैन भी चलने लगा है,

 

हावड़ा जंक्शन भारत का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन है जहाँ 23 प्लेटफॉर्म है,

 

गोरखपुर रेलवे प्लेटफार्म भारत का बड़ा रेलवे प्लेटफार्म है।

 

आपको भारतीय रेलवे नेटवर्क के इतिहास की यह जानकारी कैसी लगी और इनमें से आप कितना जानते थे और कितना आपको यहाँ से पता चला यह हमें कमेंट कर ज़रूर बताएं, और हमारी साइट के साथ जुड़े रहें हम आपके लिए ऐसी और भी जानकारी लेकर आते रहेंगे।

Leave a Comment