Nuakhai Festival Ke bare me jankari in hindi

नुआखाई त्यौहार 2021, वेस्टर्न ओडिशा त्यौहार नुआ खाई पश्चिम ओडिशा के सम्बलपुरी, बर्गर , बलांगिर, कलहंदी, जैसे ओर भी जगह में नुआ खाई त्यौहार मनाया जाता है, 2021 में नुआ की की तिथि 11 सितंबर को है, नुआ खाई एक किसान के पर्ब होता है जहाँ नया खाना खाया जाता है साथ मिल के तो चलो इसी बारे में हम बात करते है।

 

नुआखाई क्या है-

 

ओड़ीशा के पश्चिम दिशा में रहने वाले लोगों का विनायक चतुर्दसी के अगले दिन सबसे बड़ा त्यौहार होता है नुआ खाई, किसान जब साल में पहली बार खेती करता है ओर उस खेती की धान जब पक जाता है तो वो साल का पहला धान होता है।

जिसे लोग लेकर उस धान के चावल बना कर नुआ खाई के दिन खाते है उसे नुआ खाई कहते है इसका मतलब ही यह है की नुआ खाई के दिन नए खाने को खाना है जिसे नुआ खाई कहा जाता है, यह प्रथा सदिओं से चली आ रही है।

 

नुआखाई कैसे होता है-

 

नुआखाई हर साल विनायक चतुर्दसी(गणेश पूजा) के अगले दिन ही होता है, उस दिन गाओं हो या शहर हर जगह पर लोग अपने अपने घर में पूजा करके नए कपडे पहन कर एक जगह में इकठे होते है,

 

जहां उस गाओं का पुजारी होता है ओर वो खेती से नया धान को लेकर पूजा करता है, पूजा करने के बाद वही धान को चावल बना कर प्रसाद बनाया जाता है ओर सभी लोगों को बैठा एक साथ खिलाया जाता है वो खाने के बाद ही उस दिन दूसरा कुछ खा सकते हैं लोग, प्रसाद खाने के बाद लोगों को अपनी मनपसन्द के खाना पेट् भर खिलाया जाता है।

नुआ खाई के दिन खाना खाने के बाद अपनी उम्र से बड़े लोगो को नमस्कार करना पडता है, जिसे ऑडिओ में कहते है जुहार, उस दिन गाओं में घुम घुम के जुहर करना पडता है यह एक नुआ खाई का अच्छा संस्कार है, नुआ खाई के दिन दुश्मन भी दोस्त जैसे मिलता है, कोइ भेदभाव नही होता है, जो जिसके साथ चाहे बाते कर सकता है, किसी को अगर कोई नही देख पाता है तो वही दिन देखने को जरुर मिल जाता है।

 

नुआखाई के दिन का माहोल-

 

नुअखाई एक ऐसा परब है जो उस दिन दुखी के मन में भी ख़ुशियाँ भर देता है, नुआ खाई सिर्फ त्यौहार ही नही एक मिलन के दिन भी होता है, दुनिया के कहने पर भी अगर लोग कुछ करने के लिए गए होंगे तो नुआ खाई के दिन वो लोग जरुर घर को लटेंगे नया खाने के लिये, उस दिन गाओं हो या शहर हो सभी लोग अपने अपने घर में आपको देखने को मिलेंगे।

नुआ खाई के दिन सब लोग नया नया कपड़े पहनते हैं एक ही जगह में इकठ्ठे होंगे ओर पूजा होने के बाद सब लोग एक साथ बैठ के खाना खाएँगे, खाना खाने के बाद कुछ ना कुछ मनोरंजन होगा, खेल कूद डांस कुछ भी, उसदिन सब लोगो के चहरे पे खुशी होता है, ज़ो भी मनोरन्जन होगा वो कोई बाहर वाला आकर नही अपने अपने ही करते है।

जब रात हो जाती है तब असली मनोरंजन शुरू होता है जैसे ड्रम,डांस,ज़ांकृतान, उस दिन सब लोग अपनी अपनी कला दिखाते है ओर अपने गाँव के लोगो का मनरंजन करते है।

 

नुआखाई GK-

 

1- नुआखाई हर साल पूजा के अगले दिन ही होता है।

 

2- 2021 में nuakhai 11 September को था जो कि निकल चुका है अब आने वाले नए साल 2022 में 1 September को मनाया जाएगा।

3- यह सिर्फ ओडिशा के पश्चिम दिशा की लोगो का पर्ब है,

4- नुआखाई के दिन हर लोग अपनी उम्र से बड़े लोगों को जुहर यानि नमस्कार करना पडता है,

5- नुआखाई त्यौहार सदियों से चला आ रहा है,

6- नुआखाई एक पश्चिम ओडिशा के सबसे बड़े त्यौहार है,

7- नुआखाई के दिन नए कपडे पहन के नया धान के प्रसाद खाया जाता है,

8- नुआखाई के दिन घर से दूर कहीं भी कोई हो तो वो चला आता है ओर अपने घर वालों से मिल पाता है, सच बात तो यह है की नुआ खाई एक अपने से मिलने का एक महामिलन दिन होता है,

दोस्तों आपको यह नुअखाई से जुड़ी जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट कर जरूर बताएं और यदि आपको लगता है कि इसमें कुछ बताना रह गया है तो आओ हमें कमेंट कर वो भी बता सकते उस जानकारी को हम इस आर्टिकल में जोड़ देंगे।

Leave a Comment